छत्तीसगढ़ : मंत्री के सामने नेताओं की लड़ाई…. पहले कांग्रेसी आपस में ही भिड़े, फिर बीजेपी भी लड़ने लगी…. मंत्री-केंद्रीय मंत्री के सामने नेताओं ने उड़ा दी पार्टी के इज्जत की धज्जियां … गुस्से में मंत्री…

राजनांदगांव । डोंगरगढ़ में प्रसाद योजना कार्यक्रम में आज खूब बवाल मचा। पहले कांग्रेस नेता आपस में ही भिड़ गये बाद में विवाद कांग्रेस और बीजेपी कार्यकर्ता भी आपस में उलझ गये। ये पूरा तमाशा गृह व पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू की मौजूदगी में हुआ। मंच से ताम्रध्वज साहू चिल्लाते रह गये, लेकिन ना तो कांग्रेसी माने और ना ही बीजेपी नेता समझे। पूरा कार्यक्रम हंगामे की भेंट चढ़ गया। जिसके बाद मंत्री ताम्रध्वज साहू भी नाराज हो गये। पुलिस भी नेताओं को समझाती रही, लेकिन हंगामा थमने के बजाय और बढ़ गया।

दरअसल आज से डोंगरगढ़ में प्रसाद योजना कार्यक्रम की शुरूआत हो रही थी, इस कार्यक्रम में केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद पटेल भी आनलाइन जुड़े हुए थे, वहीं मंत्री ताम्रध्वज साहू कार्यक्रम को लेकर मंच पर मौजूद थे। वहीं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और प्रभारी मोहम्मद अकबर को भी वर्चुअल कार्यक्रम में शामिल होना था। कार्यक्रम शुरुआती वक्त में ही था और स्वागत का कार्यक्रम चल रहा था, तभी बवाल मच गया।

दरअसल डोंगरगढ़ में कांग्रेस के दो गुट भिड़े गये, एक गुट में डोंगरगढ़ विधायक भुनेश्वर बघेल और वरीष्ठ कांग्रेस नेता नवाज खान शामिल हैं, जबकि दूसरे गुट में महिला कांग्रेस की प्रदेश महासचिव संध्या देशपांडे और ब्लाक अध्यक्ष संजीव गुमास्ता हैं। कांग्रेसी आपस में इसलिए आपस में भिड़ गये क्योंकि अतिथियों के स्वागत में संध्या देशपांडे और संजीव गुमास्ता के लोगों का नाम नहीं है। बाद में बीजेपी ने सांसद संतोष पांडेय के ठीक से स्वागत नहीं होने का आरोप लगाकर बवाल शुरू कर दिया/

काफी देर तक कांग्रेसी और बीजेपी कार्यकर्ता बवाल करते रहे। मंत्री ताम्रध्वज साहू ने जब अपने सामने बवाल होते देखा तो उनसे रहा नहीं गया और फिर वो नाराजगी जताते हुए माइक थामा और मंच से ही फटकार लगाना शुरू कर दिया। लेकिन ना तो कांग्रेस के लोग सुनने को तैयार थे, और ना ही बीजेपी के लोग मानने को तैयार थे। काफी देर तक बोलने और केंद्रीय मंत्री के कार्यक्रम में मौजूद रहने की दुहाई देने के बाद भी हंगामा नहीं था तो ताम्रध्वज साहू मंच पर ही नाराज हो गये।

ये था पूरा कार्यक्रम 

आज डोंगरगढ़ में ‘प्रसाद’ योजना (Pilgrimage Rejuvenation And Spiritual Heritage Augmentation Drive) के तहत पर्यटन सुविधाओं के विकास के लिए लगभग 40 करोड़ 33 लाख रूपए के कार्यों का भूमिपूजन होना था। केन्द्रीय पर्यटन राज्य मंत्री प्रहलाद पटेल वीडियो कांफ्रेंसिंग से कार्यक्रम में शामिल थे।  पर्यटन मंत्री ताम्रध्वज साहू, वन एवं राजनांदगांव के प्रभारी मंत्री मोहम्मद अकबर, संसदीय सचिव चिंतामणि महराज  और पर्यटन मंत्रालय की अतिरिक्त महानिदेशक रुपिंदर बरार भी कार्यक्रम में शामिल होने वाले थे।आपको बता दें कि भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय की ‘प्रसाद’ योजना के तहत पर्यटन सुविधाओं के विकास के लिए देशभर में 31 स्थलों का चयन किया गया है, जिनमें से डोंगरगढ़ भी एक है। परियोजना के अंतर्गत डोंगरगढ़ में मां बम्लेश्वरी देवी मंदिर की पहाड़ी और प्रज्ञा गिरी पहाड़ी पर पर्यटन सुविधाएं विकसित की जाएंगी। साथ ही यहां साढ़े नौ एकड़ भूमि पर पिलग्रिम फैसिलिटेशन सेंटर बनाया जाएगा। श्रीयंत्र के आकार में निर्मित होने वाला यह भवन पूरी परियोजना का विशेष आकर्षण होगा। पिलग्रिम फैसिलिटेशन सेंटर में ध्यान केंद्र, विश्राम कक्ष, प्रसाद कक्ष, सांस्कृतिक मंच, क्लॉक रूम, सत्संग कक्ष, प्रदर्शनी गैलरी, टॉयलेट, पेयजल, लैंडस्कैपिंग, सोलर लाईट और पार्किंग स्थल आदि निर्मित किए जाएंगे।

Print Friendly, PDF & Email

Corona

Corona

Translate »